मंगलवार, 27 अक्तूबर 2015

कैसे पूछें प्रश्न

 पाठकों से अनुरोध है कि अपने जन्म का पूर्ण विवरण देकर स्पष्ट प्रश्न करें। मेरे जीवन के बारे में बताएं ,मेरी आर्थिक स्थिति कैसी है ,मेरा समय कैसा चल रहा है आदि प्रश्न निरर्थक होते हैं। मेरा जीवन कैसा रहेगा इस प्रश्न के लिए मुझे कम से कम तीन दिन तक लगातार  पाठक  की कुंडली बांचनी पड़ेगी तब मैं सही जवाब पर पहुंचूंगा। जातक की स्थिति कैसी है इसका सबसे सटीक जवाब स्वयं जातक के पास ही है। समय कैसा चल रहा है ये खुद जातक को पता होता है ,अतः ये प्रश्न बेतुके हैं ,ज्योतिषी को नहीं पता कि आप अभी क्या क्या उपचार कर  चुके हैं अथवा अब सिरा कहाँ से पकड़ कर उपचार आरम्भ करना है।ये लगभग तीन सिटींग के बाद लिए जाने वाला  निर्णय होता है। यहाँ फौरी  समस्या  का कारण जानकर उसका इंस्टेंट उपचार करने का प्रयास होता है।इसका सफल होना न होना अभी बहुत से कारकों पर निर्भर होता है। 
    मुझे सफलता मिलेगी या नहीं जैसे प्रश्न का जवाब ज्योतिषी के पास नहीं होता है। आपसे कोसों दूर बैठा ज्योतिषी नहीं जानता कि आप किस कार्य की सफलता की बात कर रहे हैं ,जैसे आपसे कोसों दूर बैठा पकवान बनाने का जानकार नहीं जानता कि आप अपने घर में कौन सा पकवान बना रहे हैं व वो स्वाद में कैसा बनेगा।उसे नहीं पता कि आपने कितनी आंच में ,कितनी मात्रा में ,किन सामग्रियों के साथ, कौन सा पकवान बनाना आरम्भ किया है। जब तक पकवान उसके स्वयं के सामने नहीं बनता वो अपनी विशिष्ट राय आपको नहीं दे सकता।वास्तव में ये ऐसा ही है जैसे आप बाल कटाने गए किन्तु अभी भीड़ के कारण नम्बर आने में समय लगने वाला है तो चलो जरा पान वाले के पास जाकर अखबार पढ़ा जाय और टशन के लिए मोदी सरकार पर उसके विचार जाने जायँ। खाली समय ही तो काटना है। …ऐसे ही इस प्रकार के प्रश्न मात्र ज्योतिषी का स्तर जांचने के लिए ही पूछे जाते हैं …देखें क्या कहता है ये  ज्योतिषी....अमूमन हम भी ऐसे प्रश्न का चयन करने से बचते हैं ,किन्तु रैंडम प्रक्रिया के द्वारा जब चयन हो जाता हैं तो जवाब  पड़ता है … किन्तु उसके बाद पाठक का किसी प्रकार का रिस्पांस न आना ज्योतिषी को हतोत्साहित करता है ……  अपने दैनिक जीवन में अपनी आजीविका के  लिए मुझे भी कार्यालय में बैठकर क्लाइंट अटेंड  होते हैं ....अतः आपसे अनुरोध है कि कृपया प्रश्न स्पष्ट रखें व जवाब प्राप्त  होने  पर रिस्पांस अवश्य दें। ....
   एक गुजारिश और पाठकों से कि लेख में दिखाई देने वाले विज्ञापनों पर क्लिक अवश्य कर दें। । इससे प्राप्त आय को मैं धार्मिक कार्यों में ही लगाता  हूँ। … धर्म के कार्य में अपरोक्ष योगदान ही सही।  आभार।  ....... ……                    
                         

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही सही कटाक्ष किया है पंडित जी और हंसा दिया अपने तर्को से आपने !
    मै भी आपसे कुछ समाधान जानने का इच्छुक हूँ !
    नाम-सागर
    जन्म तारिक- ९ जनवरी,१९९६
    जन्म समय-१:२५ pm
    जन्म स्थान- भागलपुर,बिहार

    पढाई में काफी व्यवधान आते हा ! देवी-देवताओ के सपने और तमाम उड़ने वाले सपने ,ट्रेन झरना और दूर प्रदेश किला ये सब सपने में काफी आते है ! कभी कभी इन सपनों से परेशान हो जाता हूँ ! आर्थिक स्थिति कब अच्छी होगी अभी btech कंप्यूटर से कर रहा हूँ ! धन के लिए मार्ग तलाश रहा हूँ क्योंकि धन की काफी आवश्यकता है इस वक्त ! देशसेवा करने का मौका कब मिलेगा और राजनीति में प्रवेश कब होगा ? वर्तमान में सेहत काफी खराब रहती है और पढाई-भक्ति के मार्ग में काफी अडचने आती रहती है ! कृपया समाधान बताए !
    ज्योतिष में भी रूचि है ! कब ज्योतिषी बन पाउँगा ??

    उत्तर देंहटाएं
  2. Kripya mere prashn ka uttar dein ...
    Maine BTech MBA kiya hai ,abhi kuch din pehle tak job kar rha tha par 21 Nov ko job choot gayi , meri shaadi ho chuki hai aur ek beti bhi hai ... kripya batayein mujhe aage job kab mil payegi ya phir mujhe koi business start karna chaiye ... meri details is prakar hain :

    19 Dec 1985, 09:20 am, Lucknow

    Apke jawab ki prateeksha mein...

    उत्तर देंहटाएं